Home    |    About Me    |   Contact Me   |   Disclaimer

Sunday, August 15, 2010

क्या सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है?

Despite of over one billion population, despite of millions of problems, depsite of having no hope for solution, despite of mounting frustration, one thing is not going to change - Love for my beloved motherland.

Sharing this wonderful poem written by a crazy man, who loved his motherland to the core, who shared his passion with millions of others who were honest, committed, partiotic and ready to die for the nation - something unheard of nowdays.

Spare few minutes to read this heart touching poem. You may have read / heard first few lines. However this is one amazing piece of creation which every Indian must read to understand what our forefathers went through just to ensure we can breath in free air.

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है

(ऐ वतन,) करता नहीं क्यूँ दूसरी कुछ बातचीत,
देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफ़िल में है
ऐ शहीद-ए-मुल्क-ओ-मिल्लत, मैं तेरे ऊपर निसार,
अब तेरी हिम्मत का चरचा ग़ैर की महफ़िल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

वक़्त आने पर बता देंगे तुझे, ए आसमान,
हम अभी से क्या बताएँ क्या हमारे दिल में है
खेँच कर लाई है सब को क़त्ल होने की उमीद,
आशिकों का आज जमघट कूचा-ए-क़ातिल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

है लिए हथियार दुश्मन ताक में बैठा उधर,
और हम तैयार हैं सीना लिए अपना इधर.
ख़ून से खेलेंगे होली अगर वतन मुश्क़िल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हाथ, जिन में है जूनून, कटते नही तलवार से,
सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से.
और भड़केगा जो शोला सा हमारे दिल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हम तो घर से ही थे निकले बाँधकर सर पर कफ़न,
जाँ हथेली पर लिए लो बढ चले हैं ये कदम.
ज़िंदगी तो अपनी मॆहमाँ मौत की महफ़िल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

यूँ खड़ा मक़्तल में क़ातिल कह रहा है बार-बार,
क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है?
दिल में तूफ़ानों की टोली और नसों में इन्कलाब,
होश दुश्मन के उड़ा देंगे हमें रोको न आज.
दूर रह पाए जो हमसे दम कहाँ मंज़िल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

वो जिस्म भी क्या जिस्म है जिसमे न हो ख़ून-ए-जुनून
क्या लड़े तूफ़ान से जो कश्ती-ए-साहिल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में

-Bismil Azimabadi

Vande Mataram. Long Live Bharatmata.

2 comments:

Anonymous said...

I still find you everywhere mr. --- jeevansaathi – shaadi – orkut- facebook…. Wondering that you are still searching Ms right? You have explored the whole world so far…and still single? Very strange …… hmmmm

Alka said...

Lovely poem by Bismil Azimabadi. I appreciate your patriotic spirit.

You may like this as well...

Blog Widget by LinkWithin

Disclaimer

This is a personal weblog. The opinions expressed here represent my own and not those of my friends / family / employer. Comments written by visitors are their own views, ideas and thoughts and not mine.

All data and information provided on this site is for informational purposes only. I make no representations as to accuracy, completeness, correctness, suitability, or validity of any information on this site and will not be liable for any errors, omissions, or delays in this information or any losses, damages arising from its display or use.

In addition, my thoughts and opinions change from time to time. I consider this a necessary consequence of having an open mind. I may update, change or delete earlier posts periodically.

You are reading this blog of your own free will and risk.